Login Form

If you are not registered please Sign Up|Forget Password

signup form

If already registered please Login

Blog

23 Apr, 2018 Blog

Astromitram : क्या आप भी अपनी जॉब को लेकर रहते हैं हमेशा परेशान

Astromitram : क्या आप भी अपनी जॉब को लेकर रहते हैं हमेशा परेशान / Worried for Job, Watch Now

क्या आप भी अपनी जॉब को लेकर रहते हैं हमेशा परेशान रहते हैं| योग्य हैं लेकिन नौकरी नहीं मिल पा रही| इंटरव्यू में भी बेहतर परफॉर्म करते हैं| फिर भी मौका हाथ से निकल जाता है| अगर ऐसा है तो जानिए ज्योतिष में क्या है इन समस्याओं का समाधान| जिन्हें आजमा कर जॉब मिलना आपके लिए होगा आसान|

हम में से बहुत से लोगों के साथ अपनी जॉब को लेकर यह समस्या होती है प्रतिभावान होने से उनके करियर में सुअवसर या अपॉर्चुनिटीज तो बहुत आती हैं और अछि जॉब भी मिल जाती है पर मिली हुई जॉब ज्यादा समय तक टिक नहीं पाती किसी ना किसी कारण से जॉब छूट जाती है, बहुत बार बॉस के साथ अनबन के कारण तो बहुत बार व्यक्ति स्वयं असंतुष्ट होने के कारण अपनी जॉब छोड़ देता है और इस प्रकार बार बार जॉब छूटने से व्यक्ति के करियर में कभी स्थिरता नहीं आ पाती और व्यक्ति अपनी जॉब को लेकर हमेशा संघर्ष करता रहता है, वास्तव में हमारी जन्मकुंडली में बने कुछ विशेष ग्रहयोगों के कारण ही जॉब के लेकर ऐसी स्थिति बनती है आईये जानते हैं उन विशेष ग्रहयोगों के बारे में|

“ज्योतिष में कुंडली के ‘‘दसवे भाव‘‘ को करियर का भाव माना गया है और करियर में भी विशेष रूप से ‘‘छटे भाव‘‘ को जॉब या सर्विस का भाव माना गया है इसके अलावा जॉब को लेकर हमारी कुंडली में ‘‘शनि‘‘ की बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका होती है क्योंकि शनि हमारे करियर और करियर में भी विशेषतः जॉब दोनों को ही नियंत्रित करता है| तो वास्तव में जॉब के बार बार छूटने की समस्या या जॉब को लेकर अधिक समस्याएं उन्ही लोगों के साथ आती हैं जिनकी कुंडली में दशम भाव, छटा भाव और  शनि बहुत पीड़ित या कमजोर स्थिति में हों।”

  1. यदि कुंडली के दशम भाव में कोई पाप योग बन रहा हो जैसे ग्रहण योग, गुरुचण्डाल योग आदि... तो ऐसे में व्यक्ति अपनी जॉब को लेकर हमेशा परेशान रहता है।
  2. दशमेश का नीच राशि में होना या दुःख भाव यानि छठे, आठवें,बारहवें भाव में होना भी जॉब में स्थिरता नहीं आने देता।
  3. यदि कुंडली के छटे भाव में कोई पाप योग बन रहा हो, कोई ग्रह नीच राशि में हो तो ऐसे में व्यक्ति को बार बार जॉब छूटने की समस्या होती है। 
  4. कुंडली में अगर शनि अपनी नीच राशि यानि मेष में हो तो ऐसे में भी जॉब को लेकर संघर्ष की स्थिति ही बनी रहती है। 
  5. कुंडली में यदि शनि, मंगल, केतु या सूर्य के साथ हो तो ऐसे में भी व्यक्ति अपनी जॉब को लेकर संतुष्ट नहीं रह पाता। 
  6. यदि शनि कुंडली के छटे, आठवें या बारहवें भाव में हो तो भी जॉब या तो अधिक समय तक रूक नहीं पाता या जॉब में कुछ ना कुछ समस्याएं चलती रहती हैं|

सभी व्यक्तियों की कुंडली में ग्रहस्थिति अलग अलग होने से  इस समस्या के सटीक उपाय भी व्यक्तिगत कुंडली के अनुसार सबके लिए अलग अलग ही होते हैं... पर यदि जॉब में हमेशा अस्थिरता बनी रहती हो तो उपाय के तौर पर सामान्य रूप से... शनि के मंत्र ॐ शम शनैश्चराय नमः का नियमित जाप करना चाहिए...  इस एक मंत्र में इतनी शक्ति है कि जॉब में आने वाली समस्याओं को काफी हद तक दूर कर सकती हैं|

अगर आप भी जॉब में इसी तरह की समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो सुझाव यही है कि जल्दी से जल्दी जानकार ज्योतिष को अपनी कुंडली दिखाएं और उन समस्याओं का समाधान हासिल कर सकें|

भारत के सर्वश्रेस्ठ ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करें

  • अपने दैनिक राशिफल,जन्म कुंडली निर्माण वर -कन्या की जन्म कुंडली मिलान,महामृत्युंजय जाप, राहु शान्ति, एवं जीवन की समस्याओं के बारे में जानने के लिये सशुल्क सम्पर्क करें

    Book Your Appointment

Leave a reply

Download our Mobile App

  • Download
  • Download