Login Form

If you are not registered please Sign Up|Forget Password

signup form

If already registered please Login

Blog

29 Oct, 2018 Blog

Is Diwali Puja MeYaad Se Kare Ye Kaam Or Dekhe Chamatkar / इस दिवाली पूजा में याद से करें ये काम, और देखें चमत्कार

https://youtu.be/4IxEEUoeBFg

इस दिवाली पूजा में याद से करें ये काम, और देखें चमत्कार 

दीपावली  मुख्य त्यौहारों  में  से एक है। इस वर्ष दिवाली 7, नवम्बर 2018 , बुधवार को मनाई जाएगी। दिवाली भगवान श्री राम के अयोध्या वापसी की खुशी में मनाई जाती है। इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा  का विधान है।

दिवाली पूजा विधि

स्कंद पुराण के अनुसार कार्तिक अमावस्या के दिन प्रात:  काल स्नान आदि से निवृत्त होकर सभी देवताओं की पूजा  विधि  से करनी चाहिए। इस दिन संभव हो तो दिन में भोजन नहीं करना चाहिए।

घर में शाम के समय पूजा घर में लक्ष्मी और गणेश जी की नई मूर्तियों को एक चौकी पर स्वस्तिक बनाकर तथा चावल रखकर स्थापित करना चाहिए। मूर्तियों के सामने एक जल से भरा हुआ कलश रखना चाहिए। इसके बाद मूर्तियों के सामने बैठकर हाथ में जल लेकर शुद्धि मंत्र का उच्चारण करते हुए उसे मूर्ति पर, परिवार के सदस्यों पर और घर में छिड़कना चाहिए।

गुड़, फल, फूल, मिठाई, दूर्वा, चंदन, घी, पंचामृत, मेवे, खील, बताशे, चौकी, कलश, फूलों की माला आदि सामग्रियों का प्रयोग करते हुए पूरे विधि- विधान से लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। इनके साथ- साथ देवी सरस्वती, भगवान विष्णु, काली मां और कुबेर देव की भी विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए। पूजा करते समय 11 छोटे दीप तथा एक बड़ा दीप जलाना चाहिए।

सभी छोटे दीप को घर के चौखट, खिड़कियों व छतों पर जलाकर रखना चाहिए तथा बड़े दीपक को रात भर जलता हुआ घर के पूजा स्थान पर रख देना चाहिए।

पूजा में आवश्यक साम्रगी महालक्ष्मी पूजा या दिवाली  पूजा के लिए रोली, चावल, पान- सुपारी, लौंग, इलायची, धूप, कपूर, घी या तेल से भरे हुए दीपक, कलावा, नारियल, गंगाजल, गुड़, फल, फूल, मिठाई, दूर्वा, चंदन, घी, पंचामृत, मेवे, खील, बताशे, चैकी, कलश, फूलों की माला, शंख, लक्ष्मी व गणेश जी की मूर्ति, थाली, चांदी का सिक्का, 11 दीपक  आदि वस्तुएं पूजा के लिए एकत्र कर लेना चाहिए।

लक्ष्मी मंत्र

लक्ष्मी जी की पूजा के समय इस मंत्र  का लगातार उच्चारण करते रहना चाहिएः

ऊं श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः

दीपावली पूजा मुहूर्त 2018

दीपावली के दिन प्रदोषकाल में माता लक्ष्मी जी की पूजा होती है। मान्यता है कि इस समय लक्ष्मी जी की पूजा करने से मनुष्य को कभी दरिद्रता का सामना नहीं करना पड़ता। इस साल पूजा का शुभ मुहूर्त है।

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त  शाम 5:30 से से लेकर रात को 8: 11 तक

निशारात्रि मुहूर्त : -  रात्रि 12:42से रात्रि 02:59  बजे  तक ।

भारत के सर्वश्रेस्ठ ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करें

  • अपने दैनिक राशिफल,जन्म कुंडली निर्माण वर -कन्या की जन्म कुंडली मिलान,महामृत्युंजय जाप, राहु शान्ति, एवं जीवन की समस्याओं के बारे में जानने के लिये सशुल्क सम्पर्क करें

    Book Your Appointment

Leave a reply

Download our Mobile App

  • Download
  • Download