Login Form

If you are not registered please Sign Up|Forget Password

signup form

If already registered please Login

Blog

30 Oct, 2018 Blog

Dhanteras Par Kare Ye,Saal Bhar Rahenge Swasth / धनतेरस पर याद से करें ये काम,साल भर रहेंगे स्वस्थ

https://youtu.be/leDpVTA3stk

धनतेरस पर याद से करें ये काम,साल भर रहेंगे स्वस्थ


जिस प्रकार देवी लक्ष्मी सागर मंथन से उत्पन्न हुईं थीं, उसी प्रकार भगवान धन्वन्तरि भी अमृत कलश के साथ सागर मंथन से उत्पन्न हुए थे। देवी लक्ष्मी हालांकि धन देवी हैं परन्तु उनकी कृपा प्राप्त करने के लिए आपको स्वस्थ और लम्बी आयु भी चाहिए।
यही कारण है कि दीपावली के दो दिन पहले से ही यानि  धनतेरस से ही दीपामालाएं सजने लगती हैं।
कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन ही धन्वन्तरि का जन्म हुआ था इसलिए इस तिथि को धनतेरस के नाम से जाना जाता है।
धन्वन्तरि जब प्रकट हुए थे तो उनके हाथों में अमृत से भरा कलश था। भगवान धन्वन्तरि चूंकि कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए ही इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परम्परा है। कहीं-कहीं लोकमान्यता के अनुसार यह भी कहा जाता है कि इस दिन धन  खरीदने से उसमें 13 गुणा वृद्धि होती है।
इस अवसर पर धनिया के बीज खरीद कर भी लोग घर में रखते हैं। दीपावली के बाद इन बीजों को लोग अपने बाग-बगीचों में या खेतों में बोते हैं।
धनतेरस के दिन चांदी खरीदने की भी प्रथा है। अगर सम्भव न हो तो कोई भी बर्तन खरीदें।
इसके पीछे यह कारण माना जाता है कि यह चन्द्रमा का प्रतीक है जो शीतलता प्रदान करता है और मन में संतोष रूपी धन का वास होता है।
भगवान धन्वन्तरि जो चिकित्सा के देवता भी हैं, उनसे स्वास्थ्य और सेहत की कामना की जाती है।
 

भारत के सर्वश्रेस्ठ ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करें

  • अपने दैनिक राशिफल,जन्म कुंडली निर्माण वर -कन्या की जन्म कुंडली मिलान,महामृत्युंजय जाप, राहु शान्ति, एवं जीवन की समस्याओं के बारे में जानने के लिये सशुल्क सम्पर्क करें

    Book Your Appointment

Leave a reply

Download our Mobile App

  • Download
  • Download