Login Form

If you are not registered please Sign Up|Forget Password

signup form

If already registered please Login

Blog

17 Apr, 2018 Blog

Astromitram : अक्षय तृतीया का पूजन व प्रयोग / Akshya Tratiya Ka Pujan Evam Prayog

ज्योतिषाचार्य पंडित दयानंद शास्त्री बताते हैं की अक्षय तृतीया के दिन ऐसी साधना करने से सभी सुख प्राप्त होते हैं. लक्ष्मी की प्रसन्नता के लिए अक्षय तृतीया पर किया गया यह उपाय किसी चमत्कार से कम नहीं है. स्फटिक के श्रीयंत्र को पंचोपचार-पूजन से विधिवत स्थापित करें. माता लक्ष्मी का ध्यान करें, श्रीसूक्त का पाठ करें. जितना संभव हो सके, कमलगट्टे की माला से नियमित इस मंत्र का जाप करते हुए एक गुलाब अर्पित करते रहें:---
 
‘‘महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णुपत्नयै च धीमहि तन्नो लक्ष्मीः प्रचोदयात‘‘
यूं पूजा करके ऐसे श्रीयंत्र को आप इस दिन व्यावसायिक स्थल पर भी स्थापित कर सकते हैं. लक्ष्मी की अपार कृपा हो जायेगी.

विशेष बातें जो ध्यान रखनी हैं--
 

  1. जिन जातकों के कार्यो में अड़चनें आ रही हैं, अथवा जिनके व्यापार में लगातार हानि हो रही है.
  2. अधिक परिश्रम के बावजूद धन नहीं टिकता है और घर में अशांति बनी रहती है.
  3. संतान मनोकूल कार्य ना करें तथा विरोधी चहुंओर से परेशान कर रहे हों.
  4. जिन महिलाओं के वैवाहिक सुख में तनाव या अवसाद की स्थिति बनी रहती है.

ऐसे में अक्षय तृतीया का व्रत रख कर और गर्मी में निम्न वस्तुओं जैसे - छाता, दही, जूता-चप्पल, जल का घड़ा, सत्तू, खरबूजा, तरबूज, बेल का शरबत, मीठा जल, हाथवाले पंखे, टोपी, सुराही आदि का दान करने से उपरोक्त समस्याओं से मुक्ति मिल जाती है.

 

  • आखा तीज पर ऋण से मुक्ति हेतु ‘कनकधारा यंत्र’ की लाल वस्त्र पर पूजा कर घर में स्थापना करें. पंचोपचार से पूजा करें. 51 दिनों तक श्रद्धा से यंत्र का पाठ करें. धीरे-धीरे ऋण कैसे उतर गया, यह पता भी नहीं चलेगा.
  • आकस्मिक धन प्राप्ति हेतु अक्षय तृतीया से प्रारंभ करते हुए माता लक्ष्मी के मंदिर में हर शुक्र वार धूपबत्ती व गुलाब की अगरबत्ती दान करने से जीवन में अचानक धन प्राप्ति के योग बनते हैं.
  • वास्तुदोष से यदि आर्थिक समृद्धि रु की हो, तो ढक्कन सहित एक चांदी की डिबिया में गंगाजल भर दें. डिब्बी पर मौली के साथ एक मूंगा बांध दें. अक्षय तृतीया को इसे ईशान-कोण में स्थापित कर दें. आर्थिक समृद्धि मिलने लगेगी. सभी प्रकार का नुकसान खत्म हो जायेगा.
  • धनधान्य में श्रीवृद्धि हेतु अक्षय तृतीया को एक मुट्ठी बासमती चावल श्री महालक्ष्मी का ध्यान व श्री मंत्र का जाप करते हुए बहते जल में प्रवाहित कर दें. आश्चर्यजनक लाभ होगा.
  • धन की विशेष प्राप्ति के लिए अक्षय तृतीया को स्वर्ण में जड़ित चौदहमुखी रु द्राक्ष का प्रथम पंचोपचार से पूजन करें. लाल फूल अर्पित करें. रु द्राक्ष की माला से ú हृीं नमः मम गृहे धनं कुरु  कुरु  स्वाहा  की एक माला का जाप करें. 42 दिन तक जप करें. तत्पश्चात रु द्राक्ष को गले में धारण कर लें.
  • अक्षय तृतीया को दान व उपवास करने से हजार गुना फल मिलता है. महालक्ष्मी की साधना विशेष लाभकारी व फलदायी सिद्ध होती है.
  • अक्षय तृतीया पर यह करें
  • अक्षय तृतीया के दिन विवाह, गृह प्रवेश, भूमि-पूजन, वाहन खरीदना, स्वर्णाभूषण क्र य, पदभार ग्रहण, नया सामान क्र य, नया व्यापार शुरू करने के साथ समस्त शुभ कार्यों को प्रारंभ किया जा सकता है.
  • इस दिन समुद्र या गंगा अथवा किसी अन्य नदी में स्नान करना चाहिए.
  • प्रातः पंखा, चावल, नमक, घी, शक्कर, साग, इमली, फल व वस्त्र आदि दान करके ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए. फिर उसे दक्षिणा भी देकर विदा करना चाहिए.
  • इस दिन व्यक्ति को सत्तू अवश्य खाना चाहिए.
  • इस दिन नये वस्त्र, शस्त्र, आभूषणादि बनवाना या धारण करना चाहिए.
  • नये स्थान, संस्थान, समाज आदि की स्थापना या उद्घाटन भी इसी दिन करना चाहिए.

भारत के सर्वश्रेस्ठ ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करें

  • अपने दैनिक राशिफल,जन्म कुंडली निर्माण वर -कन्या की जन्म कुंडली मिलान,महामृत्युंजय जाप, राहु शान्ति, एवं जीवन की समस्याओं के बारे में जानने के लिये सशुल्क सम्पर्क करें

    Book Your Appointment

Leave a reply

Download our Mobile App

  • Download
  • Download