Login Form

If you are not registered please Sign Up|Forget Password

signup form

If already registered please Login

Blog

19 Apr, 2018 Blog

Astromitram : Adbhut Siddhiprad Shri Yantra / अद्भुत सिद्धिप्रद श्री यंत्र

हर कार्य में सिद्धी देने वाला श्रीयंत्र एक अद्भुत यंत्र है.. शास्त्रों में कहा गया है कि श्रीयंत्र के दर्शन मात्र से ही लाभ मिलना शुरू हो जाता है...
श्रीयंत्र का उल्लेख तंत्रराज, ललिता सहस्रनाम, कामकला विलास, त्रिपुरोपनिषद आदि विभिन्न प्राचीन भारतीय ग्रंथों में मिलता है। महापुराणों में श्री यंत्र को देवी महालक्ष्मी का प्रतीक कहा गया है। महालक्ष्मी स्वयं कहती हैं दृ ‘ श्री यंत्र मेरा प्राण, मेरी शक्ति, मेरी आत्मा तथा मेरा स्वरूप है। श्री यंत्र के प्रभाव से ही मैं पृथ्वी लोक पर वास करती हूं। ’

श्रीयंत्र को यंत्रराज, यंत्र शिरोमणि, षोडशी यंत्र व देवद्वार भी कहा गया है। ऋषि दत्तात्रेय और दुर्वासा ने श्रीयंत्र को मोक्षदाता माना है। जैन शास्त्रों ने भी इस यंत्र की प्रशंसा की है। जिस तरह शरीर व आत्मा एक दूसरे के पूरक हैं उसी तरह देवता व उनके यंत्र भी एक दूसरे के पूरक हैं। यंत्र को देवता का शरीर और मंत्र को आत्मा कहते हैं। यंत्र और मंत्र दोनों की साधना उपासना मिलकर शीघ्र फल देती है। जिस तरह मंत्र की शक्ति उसके शब्दों में निहित होती है उसी तरह यंत्र की शक्ति उसकी रेखाओं और बिंदुओं में होती है। मकान, दुकान आदि का निर्माण करते समय यदि उसकी नींव में प्राण प्रतिष्ठित श्री यंत्र को स्थापित करें तो वहां के निवासियों को श्री यंत्र की अदभुत और  चमत्कारी शक्तियों का लाभ मिल सकता है... 

यह यंत्र मनुष्य को धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष देने वाला है। इसकी कृपा से मनुष्य को अष्ट सिद्धि व नौ निधियों की प्राप्ति हो सकती है। श्री यंत्र के पूजन से सभी रोग दूर होते हैं और शरीर की कांति निर्मल होती है। इसकी पूजा से शक्ति स्तंभन होता है व पंचतत्वों पर विजय प्राप्त होती है।
श्रीयंत्र की कृपा से मनुष्य को धन, समृद्धि, यश, कीर्ति, ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। श्री यंत्र के पूजन से रुके हुए कार्य बनते हैं। श्री यंत्र की श्रद्धापूर्वक नियमित रूप से पूजा करने से दुःख दारिर्द्य का नाश होता है। शारीरिक और मानसिक शक्ति पुष्ट होती है। इस यंत्र की पूजा से दस महाविद्याओं की कृपा भी प्राप्त होती है। श्री यंत्र की साधना से आर्थिक उन्नति होती है और व्यापार में सफलता मिलती है।

इस अद्भुत यंत्र को खास बनाता है मां लक्ष्मी का साथ... एक सुन्दर आख्यान है कि एक बार लक्ष्मी अप्रसन्न होकर बैकुण्ठ को चली गईं, इससे पृथ्वी तल पर काफी समस्याएं पैदा हो गईं। ब्राह्मण और वणिक वर्ग बिना लक्ष्मी के दीन-हीन, असहाय से घूमने लगे, तब ब्राह्मणों में श्रेष्ठ, वशिष्ठ ने निश्चय किया, कि मैं लक्ष्मी को प्रसन्न कर भूतल पर ले आऊंगा।
वशिष्ठ विष्णु की आराधना करने लगे। जब विष्णु प्रसन्न होकर प्रकट हुए, तो वशिष्ठ ने कहा, कि हम पृथ्वी पर बिना लक्ष्मी के दुःखी हैं, हमारे आश्रम उजड़ गए हैं, चौपट हो गए हैं और जीवन की उमंग और उत्साह समाप्त हो गया है।

भगवान विष्णु, वशिष्ठ को साथ लेकर लक्ष्मीजी के पास गए और उन्हें मनाने लगे, परन्तु लक्ष्मी नहीं मानीं और उन्होंने दृढ़तापूर्वक कहा, कि मैं किसी भी स्थिति में भूतल पर जाने को तैयार नहीं हूं। क्योंकि पृथ्वी पर साधना और शुद्धि नहीं है।
हताश होकर वशिष्ठ पुनः धरती पर लौट आए और लक्ष्मी के निर्णय से सबको अवगत करा दिया। तब देवताओं के गुरु बृहस्पति ने कहा, कि अब एकमात्र ‘ श्रीयंत्र साधना ’ ही बची है, और यदि सिद्ध ‘ श्री यंत्र ’ बना कर स्थापित किया जाए, तो निश्चय ही लक्ष्मीजी को आना पड़ेगा।

बृहस्पति की बात से ॠषियों में हर्ष की लहर दौड़ गई और उन्होंने बृहस्पति के निर्देशानुसार धातु पर श्रीयंत्र का निर्माण किया और उसे मंत्र सिद्ध प्राण प्रतिष्ठायुक्त किया और दीपावली से दो दिन पूर्व धन त्रयोदशी को उस श्रीयंत्र को स्थापित कर विधि-विधान से उसका पूजन किया। पूजन समाप्त होते-होते लक्ष्मी स्वयं वहां उपस्थित हो गईं और बोलीं दृ मैं किसी भी स्थिति में यहां आने के लिए तैयार नहीं थी, यह मेरा प्रण था, परन्तु बृहस्पति की युक्ति से मुझे आना ही पड़ा। श्रीयंत्र मेरा आधार है और इसी में मेरी आत्मा निहित है।
इस कथा से यह भली भांति स्पष्ट है, कि श्रीयंत्र अपने आप में लक्ष्मी का सर्वाधिक प्रिय स्थान है, और जहां यह यंत्र स्थापित होता है, वहां लक्ष्मी स्थायी रूप से रहती ही हैं।

साधकों, ॠषियों, मुनियों और तपस्वियों ने एक स्वर से यह स्वीकार किया है, कि यह यंत्र अद्भुत धनप्रदायक यंत्र है। अन्य किसी भी प्रयोग या साधना से लक्ष्मी प्रसन्न हों या न हों, परन्तु श्रीयंत्र का स्थापन करने से निश्चय ही लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और वह साधक को पूर्ण भौतिक सुख, सफलता और सम्पन्नता प्रदान करती हैं।

श्री यंत्र यदि मंत्र सिद्ध है, तो इस पर अन्य किसी भी प्रकार का प्रयोग या उपाय करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह स्वयं ही चौतन्य हो जाता है और जहां पर भी यह स्थापित होता है, उसको अनुकूल फल और प्रभाव देने लग जाता है। जिस प्रकार अगरबत्ती किसी व्यक्ति विशेष से सम्बन्धित नहीं होती, वह जहां पर भी जलाई जाती है, वहीं पर सुगन्ध बिखेरने लग जाती है, इसी प्रकार मंत्र सिद्ध चौतन्य श्रीयंत्र जहां पर भी स्थापित होता है वहीं पर यह अनुकूल फल देने में समर्थ हो जाता है।

भारत के सर्वश्रेस्ठ ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करें

  • अपने दैनिक राशिफल,जन्म कुंडली निर्माण वर -कन्या की जन्म कुंडली मिलान,महामृत्युंजय जाप, राहु शान्ति, एवं जीवन की समस्याओं के बारे में जानने के लिये सशुल्क सम्पर्क करें

    Book Your Appointment

Leave a reply

Download our Mobile App

  • Download
  • Download